असम का नाम असम कैसे हुआ?|about Assam in Hindi,असम के बारे में कुछ बाते!

0

असम का नाम असम कैसे हुआ?|about Assam in Hindi,असम के विशेषताएं और कुछ ख़ास जगह बारे में बाते, असम राज्य के बारे में कुछ बाते!

हमारे भारत देश में बोहत सारे राज्य है। लेकिन भारत के उत्तर पूर्वांचल(North East) के राज्य के बाते कुछ और ही हैं। उत्तर पूर्वांचल के कुल सात राज्य हैं, जिन्हें हम सात बेहने भी कहते है।तो हम इस सात राज्य में से उत्तर पूर्वांचल के मुख्य द्वार कहे जाने वाले असम के बारे में बात करेंगे। असम का नाम असम कैसे हुआ, असम में क्या famous है और बोहत कुछ।

असम का नाम असम कैसे हुआ?

असम के नाम को लेकर बोहत लोगो के बीच मतभेद रहा है। इसका सही सफाई किसी ने अभी तक दे नहीं पाया। असम के नाम को लेकर दो बात सामने आती है-

1. आहोम के कारण।

2. भौगोलिक दिशा के कारण।

1.आहोम के कारण:

असम में आहोम ने ६०० साल(600 year) राज किया था। आहोम ने असम के बोहत तरक्की की थी। इनके राज में असम ने अपने एक अलग पहचान बनाई थी। कुछ विद्वानों के अनुसार असमा नामक आहोम शब्द से ही असम नाम का उत्पत्ति हुआ था। दूसरे कुछ विद्वानों के अनुसार आहोम के कारण ही असम नाम का उत्पत्ति हुई है। अरुणाचल प्रदेश, नागालैंड, मिज़ोरम और मेघालय ये सारे राज्य पहले असम का ही हिस्सा था, जो की बाद में अलग अलग हो गई।

2. भौगोलिक दिशा के कारण:

उत्तर पूर्वांचल के सभी राज्य अपने पाकृतीक संदर्यो के कारण भारत के सभी राज्य से अलग हैं। पुर्बच के सभी राज्य के तरह असम भी अपने पाकृतीक संदर्यो के कारण खाश हैं। असम में पर्वत, पहाड़, नद- नदी इन सब है। कुछ विद्वानों के अनुसार ज्यादा पहाड़ पर्वत आदि के कारण असम के भूमि आसमान हैं, और इस आसमान भूमि के कारण असम का नाम असम हुआ है।

अत: असम के नाम का असली राज आज तक कोई भी ठीक से बता नही पाया।

असम के विशेषताएं और कुछ ख़ास जगह बारे में बाते:

भारत के उत्तर पूर्वांचल में स्थित असम एक बहुत ही प्यारा और प्राकृतिक सौंदर्य से भरपूर एक राज्य हैं। चारो ओर पहाड़ से घिरा असम एक प्रकृति की देन हैं। इस राज्य सौंदर्यता को थोड़ा और आगे ले जाता है इस राज्यो के बीच से बहने वाली दो नदियां-

  1. ब्रह्मपुत्र।
  2. बोराक।

इन दोनों नोदिया ने असम के सौंदर्य को चार चांद लगा दिया हैं। असम के जंगलों में हर तरह के पोधे पाए जाते हैं जो इसकी एक और खासियत है। असम के भू- भाग में तरह तरह के खनिज पदा मिलते हैं जैसे खनिज तेल और बोहोत कुछ। असम के एक और खासियत है असम की चाय। असम की चाय पूरी दुनिया में एक नंबर हैं। असम को नॉर्थईस्ट इंडिया के द्वार भी कहा जाता है, क्युकी असम से होकर ही हम नॉर्थईस्ट की बाकी राज्य पर प्रवेश कर सकते है। इसके अलावा असम में भिन्न तरह के चिड़िया और जीव जंतु पाए जाते हैं। कहा जाए तो असम पकृतिक बोस्तुओ से भरा हुआ एक मनोरम राज्य हैं। असम की एक और खास बात है इस राज्य के उत्सव। असम में असमीया (assamese) लोग बिहू उत्सव मनाते हैं। जो साल में तीन बार आता है-

  • पहला,भोगाली बिहू।
  • दूसरा, रंगाल बिहू। और
  • तीसरा, कंगाली बिहू।
  • ये बिहू ही असम का जातीय उत्सव है।

असम इन सब चीजों के अलावा असम में कोई सारे महत्वपूर्ण जगह भी हैं।

असम के काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान (Kaziranga National park) पूरी दुनिया एक सिंग वाले गेंड के लिए मशहूर है। इस उद्यान पर हर साल दुनिया के हर कोने कोने से लोग घूमने आते हैं। इसके अलावा असम के मानस राष्ट्रीय उद्यान भी शेर के लिए मशहूर है। असम के बीच से बहने वाले नदी ब्रह्मपुत्र के बीच दुनिया के सबसे बड़ा नदीदीप माजुली स्थित है। जिसे हम सत्र नगरी नाम से भी जानते हैं। इसके अलावा असम में मा कामाख्या देवी का मंदिर भी हैं, जहा दूर दूर से भक्त गण आते हैं। एशिया महादेश के दूसरे सबसे बड़े दलंग धाला सादिया भी असम में ही हैं और ये दलांग भारत के सबसे बड़ा दालांग हैं।

देखा जाए असम एक मनोरम राज्य है। तो आप लोग कभी आकर असम घूम सकते है। जिससे आप असम के बारे में और भी बाते जानेंगे। साथ ही visit kijiye awesome assam।

At Last:

तो दस्तो यह था असम राज्य के बारे में कुछ बाते, आशा करता हु आपको यह पोस्ट पसंद आया है और आपको पता चल गया असम का नाम असम कैसे हुआ?|about Assam in Hindi

इस ब्लॉग के लेटेस्ट पोस्ट की नोटिफिकेशन पाने के लिए फेसबुक पेज लाइक, ब्लॉग के बेल्ल आइकॉन सब्सक्राइब करना न भूले। नॉलेज फाइंडर ब्लॉग विजिट करने के लिए और लिख पढ़ने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here