Cheque Bounced पर क्या सजा होती है – Cheque bounce क्या है

0

Cheque Bounced पर क्या सजा होती है – Cheque bounce क्या है,Bounce Cheque की पूरी जानकारी

हम सब के पास बैंक अकाउंट होता है और हम लोग जरूरत पड़ने पर चेक बुक का इस्तेमाल भी करते हैं मगर कभी-कभी ऐसा होता है कि चेक बाउंस हो जाता है हमारे मन में सवाल आता है कि चेक बाउंस होने पर क्या करें यानी चेक बाउंस होने पर क्या करना चाहिए

अगर आप भी चेक बाउंस होने को लेकर परेशान है और आपको नहीं पता है कि चेक बाउंस क्यों होता है चेक बाउंस होने के कारण क्या है और चेक बाउंस होने पर किन प्रोसेस को फॉलो करके आप अपने चेक को प्रोसेस में ला सकते हैं तो बने रहिए हमारे आज के इस आर्टिकल के अंत तक।

नमस्कार दोस्तों नॉलेज फाइंडर ब्लॉग के बैंकिंग सम्बंदित लिख में आपका स्वागत है आज हम आपको चेक बाउंस से रिलेटेड कुछ जानकारी देंगे जिसमें चेक बाउंस होने पर क्या करना चाहिए इसके बारे में बताएंगे।

Cheque bounce क्या है, Bounce Cheque की पूरी जानकारी

Cheque bounce क्या है

चेक बाउंस क्यों होता है

चेक बाउंस होने के बहुत सारे कारण हो सकते हैं मगर हम आपको तीन कारण के बारे में बता रहे हैं जो कि हर किसी को फेस करने पड़ते हैं तो आइए जानते हैं चेक बाउंस होने के क्या कारण होते हैं

  • 1. Insufficient Balance

चेक बाउंस होने का सबसे पहला कारण यह है कि आपके बैंक में उतना बैलेंस नहीं है जितना आपने चेक निकालने के लिए दिया हुआ है या फिर अगर आपने किसी से चेक लिया है तो उसके बैंक में उतना बैलेंस नहीं है जिससे आप उस चेक के द्वारा पैसे विड्रोल कर सको

  • 2. Invalid Bank Account

चेक बाउंस होने का दूसरा कारण यह है कि जिससे आपने चेक लिया है उसका उस बैंक में कोई भी खाता नहीं है शायद उसने बंद करवा दिया है या फिर उसने उस बैंक में खाता खोला ही नहीं है

  • 3. Stop Payment

चेक बाउंस होने का तीसरा कारण यह है कि आपने जिस चेक से पैसे लिए है उस व्यक्ति ने पेमेंट को बैंक के द्वारा स्टॉप कर दिया है जिससे आप पैसे नहीं निकाल पाओगे

चेक किस वजह से बाउंस हुआ है कैसे पता करें?

हाल ही में हमने आपको 3 तरीके बताए हैं जिससे चेक बाउंस होने की संभावना है मगर आपको कैसे पता चलेगा इन तीनों कारणों में से कौन सा ऐसा कारण है जिसकी वजह से चेक बाउंस हुआ है तो आइए जानते हैं किन कारण की वजह से चेक बाउंस हुआ है उसको आप कैसे जान सकते हो

बैंक मेमो रिटर्न करती है अगर आपका चेक dishonor हो जाता है या बाउंस हो जाता है उसी के साथ साथ ओरिजिनल कॉपी भी भेजती है और आपको यह भी बताती है कि किस कारण की वजह से आपका चेक बाउंस हुआ है

आइए इस को उदाहरण के तौर पर समझ लेते हैं

Example : मान लीजिए आपने मुझे एक चेक दिया और वह बाउंस हो गया तो बैंक मुझे ओरिजिनल कॉपी भेजेगी और एक मेमोरी टर्न भी देगी जिसके अंदर लिखा होगा वह कारण जिसकी वजह से चेक बाउंस हो गया है

तो इस तरीके से हर उस व्यक्ति को पता चल जाता है जिसका भी चेक बाउंस हो जाता है

क्या चेक बाउंस होने पर केस कर सकते हैं

जी नहीं आप सीधे ही चेक बाउंस होने पर केस नहीं कर सकते हैं किस करने के लिए आपको कुछ बातों का ध्यान रखना है,

  • 1. Notice of Payment Demand

यदि आपका चेक बाउंस हो चुका है तो आप उस पर केस नहीं कर सकते हो आपको उस व्यक्ति को एक नोटिस भेजना होगा जिसमें आपको यह अपील करनी है कि चेक बाउंस हुआ है तो उसके लिए पेमेंट दोबारा से कर दीजिए

क्योंकि हमारे साथ बहुत बार ऐसा होता है कि हम बहुत कुछ चीजें भूल जाते हैं या फिर हमसे गलती हो जाती है तो हो सकता है कि सामने वाले से भी कुछ ऐसी गलती हुई हो जिसकी वजह से चेक बाउंस हो गया है इसीलिए नोटिस भेजना आपका कर्तव्य है

सामने वाले को नोटिस भेजने का मतलब सिर्फ यही है कि उससे कोई गलती हुई है तो वह सुधार सकता है और आप समझौता करके अपनी पेमेंट प्रोसेस को आगे रख सकते हैं यानी कि जारी रख सकते हैं, बिना मतलब के आप कोई भी केस नहीं कर सकते हैं उसके लिए आपके पास ठोस रूप होना चाहिए

  • 2. How to write notice

सबसे अच्छी बात यह है कि चेक बाउंस होने पर नोट इसको आप अपनी भाषा में लिख सकते हो नोटिस को किसी मुश्किल भाषा में लिखना जरूरी नहीं है यानी कि नोटिस का कोई भी फॉर्मेट नहीं है आपको जिस भाषा में सामने वाले को अपील करनी है बहुत ही आसान भाषा में करनी है

आइए उदाहरण के तौर पर समझ लेते हैं कि नोटिस को लिखने के लिए क्या फॉर्मेट होना चाहिए

आपका चेक बाउंस हो गया है और आपको 15 दिन के अंदर ओरिजिनल पेमेंट की प्रोसेस को दुबारा करना है

  • 3. Notice देने के बाद क्या करें

नोटिस देने के बाद आपको 15 days तक का इंतजार करना है यदि 15 days के अंदर उस व्यक्ति ने आपको पैसे लौटा दिए तो आपको उस व्यक्ति पर केस करने की कोई भी जरूरत नहीं पड़ेगी,

अगर 15 दिन की मोहलत देने पर भी सामने वाला आपको पेमेंट नहीं दे पाया है तब आप उस पर 16 दिन से चेक बाउंस होने का केस कर सकते हो

Case करने से पहले आपके पास यह सारे डाक्यूमेंट्स होने चाहिए

  • Original Cheque Copy (ओरिजिनल चेक की कॉपी)
  • Return memo (बैंक द्वारा आया हुआ return memo जिसमे चेक बाउंस होने का कारन बताया)
  • Demand Notice (जिसमे अपने सामने वाले को पैसे वापस भेजने की मांग की थी मोहलत देकर)
  • Notice Postal Receipt (नोटिस भेजने की रसीट)

रखें इन बातों का ध्यान 

Case को File करते वक़्त आपके Demand Notice में यह लिखा हुआ ज़रूर लिखा होना चाहिए के

  • चेक क्यों बाउंस हुआ है और उसका कारन।
  • अपने सामने वाले व्यक्ति को 15 दिन की मोहलत दी है पैसे दुबारा देने के लिए।
  • आपका notice written format में होना ज़रूरी है।

चेक बाउंस होने पर क्या सजा होती है

चेक बाउंस होना भी एक कानूनी जुर्म है इसमें सामने वाले व्यक्ति यानी जिस पर केस हुआ है उस व्यक्ति को 2 साल की जेल हो सकती है या तो उसे दोगुनी रकम देनी पड़ सकती है

चेक बाउंस होने के बाद अगर सामने वाला व्यक्ति 3 या 4 दिन के अंदर आपको आपके पैसे लौटा देता है तब आपको आपका कैसे रिटर्न ले लेना है तुम कि जब वह आपको पैसे दे रहा है तो आपको कोई जरूरत नहीं है आप उस पर केस करो और सबकी सहमति भी इसी के साथ है

और यह केस का सिस्टम भी इसी लिए बनाया गया है ताकि जिस भी व्यक्ति का पैसा देना हो सामने वाला व्यक्ति उसको आसानी से दे दे यहां पर किसी भी इंसान को चेक के बाउंस होने पर सजा देने का इंटेंशन हमारे संविधान का बिल्कुल भी नहीं है यह सिर्फ इसी लिए बनाया गया है ताकि लोग अपने काम सही तरीके से करें और किसी का पैसा ना रखें।

Last word

तो यह था आज के पोस्ट चेक बाउंस के ऊपर, इसमें बताया है चेक बाउंस क्यों होता है चेक बाउंस होने के कारण क्या है, Bounce Cheque की पूरी जानकारी।  आशा करता हु आपको यह पोस्ट पसंद आया है, कुछ सवाल है तो कमेंट जरूर करे।

“हमारे ब्लॉग के लेटेस्ट अपडेट पाने के लिए बेल्ल आइकॉन सब्सक्राइब करे, फेसबुक पेज भी लइके करना न भूले। लिख पढ़ने के लिए और नॉलेज फाइंडर विजिट करने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद।”

यह भी पढ़े –

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here